आतंकी को बचाने के लिए सेना पर पत्थर चला रहे थे गावं वाले, जाने फिर क्या हुआ

अनंतनाग के डायलगाम गांव में होने वाली लड़ाई के दौरान यहां से लगभग 65 किलोमीटर दूर, सुरक्षा बलों ने एक खोजी अभियान चलाया गया| पुलिस ने कहा कि सभी 17 नागरिक जो घर में फंसे हुए थे, जहां आतंकियों ने पद संभाला था, उन्हें पहले बचा लिया गया | जिले के 16 पुलिसकर्मियों की हत्या में कथित रूप से शामिल बशीर लश्करी, एक निजी घर में फंसे दो बंदूकधारियों में से एक था। पुलिस के अनुसार सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच क्रॉस फायरिंग में एक महिला नागरिक की हत्या कर दी गई|

 

 

पुलिस ने बयान में कहा सुरक्षा बलों को एक घर में छिपे आतंकवादियों के बारे में टिप-ऑफ के बाद बैपटो गांव में एक अभियान शुरू करने पर गोली चलाई गई थी। क्रॉस फायरिंग में, महिला घायल हो गई और बाद में उसकी मौत हो गई । यह सुनिश्चित करने के लिए क्षेत्र के सभी स्कूलों और कॉलेजों को बंद कर दिया गया है ताकि ऑपरेशन में कोई बाधा न आये।यहां तक ​​कि क्षेत्र की मोबाइल सेवाएं निलंबित कर दी गईहैं। सेना के सूत्रों के मुताबिक चल रहे ऑपरेशन से घाटी में स्थानीय लोग फिर से सेना के वैन पर पत्थर चलाये |

 

पर इन सभी में चैन की बात ये रही की इसमें बशीर लश्करी और उसका एक साथी मारा गया | जो भारतीय सेना के लिए सरदर्द बना हुआ था| सेना के सूत्रों के मुताबिक अभी ऐसी करवाई चलती रहेगी और आतंकवादियों को छोड़ा नहीं जाएगा|

loading…