आजम खान के ऊपर राजद्रोह का केस, पुलिस स्टेशन में शिकायत हुई दर्ज़




रामपुर और बिजनौर जिले में आजम खान के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई | बिजनौर में, विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के नेता अनिल कुमार पांडे ने चानपुर पुलिस थाने में आज़म खान के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि सेना में विद्रोह के लिए उकसाये जाने वाला आजम खान का बयान निंदनीय है| उन्होंने यह भी कहा कि उनके बयान के साथ आज़ाम अपने कर्तव्यों का पालन करने से भटक गए|

 

अजय कुमार ने कहा कि वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से निर्देश के बाद एफआईआर दर्ज की गई क्यूंकि जब स्थानीय पुलिस ने शुरू में आज़म खान के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने में दिलचस्पी नहीं दिखाई, तब अनिल कुमार पांडे ने गुरुवार को पुलिस अधीक्षक बिजनौर कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया। बिजनौर पुलिस ने आज़म खान के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के आश्वासन के बाद ही विरोध हटा लिया गया|

 

 

आज़म खान के खिलाफ दूसरी प्राथमिकी रामपुर में सिविल लाइंस पुलिस थाने में दर्ज की गई थी। राजनेश कुमार सोलंकी के स्टेशन अधिकारी, सिविल लाइंस पुलिस स्टेशन, राजेश कुमार सोलंकी ने कहा एफआईआर भारतीय दंड संहिता की धारा 153 ए (धर्म, जाति, जन्म स्थान, निवास, भाषा आदि) के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के लिए की गयी है। गुरुवार को शाहजहांपुर के एक वीएचपी नेता और वकील राजेश कुमार अवस्थी ने खान की जीभ को काट देने वाले किसी को भी 50 लाख रुपये का इनाम देने की घोषणा की। जिला कलेक्टर के अन्य वकीलों के साथ शाहजहांपुर में विरोध करते हुए विहिप के शाहजहांपुर जिला सचिव अवस्थी ने बयान दिया।

 

अवस्थी ने कहा आज़म खान जैसे लोग केवल सुरक्षा बलों के मनोबल को कम करने के लिए अपमानजनक बयान करते हैं और ऐसी चीजों को केवल अपनी जीभ काट देने के बाद ही रोका जा सकता है। आजम खान का सेना पर दिया गया विवादित बयान उन पर भारी पड़ता दिख रहा है|

loading…